Pairi Ke Sargam CG song lyrics | BHagwat Nishad

Pairi Ke Sargam CG song lyrics:- ye cg song 30 oct 2020 me bana hai aur is gaane ko Bhagwat Nishad, Champa Nishad gaaye hai isme choriyographer kiye hai Satish Sahu.

𝐏𝐚𝐢𝐫𝐢 𝐊𝐞 𝐒𝐚𝐫𝐠𝐚𝐦 𝐂𝐆 𝐬𝐨𝐧𝐠 𝐥𝐲𝐫𝐢𝐜𝐬

SongPairi ke sargam
Singer Bhagwat Nishad, Champa Nishad
LyricsBhagwat Nishad
Choriyographer Satish Sahu
Pairi Ke Sargam CG song lyrics
Pairi Ke Sargam CG song lyrics

ᴘᴀɪʀɪ ᴋᴇ sᴀʀɢᴀᴍ ᴄɢ sᴏɴɢ ʟʏʀɪᴄs ɪɴ ʜɪɴᴅɪ

पैरी के तोर सरगम हा

दिल के राग ल छेठे

झरे माया के मोती

पिरित म तै हा बोरे

आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

टूटे झन ये बंधना

हां.. आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

टूटे झन ये बंधना

सुर मा बोली बहे झरना

हिर्दय ला झकझोरे

झरे माया के मोती

पिरित म तै हा बोरे

आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

सुन ले मोरे सजना

आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

सुन ले मोरे सजना

मंजूर पाखी गोरी तोर आंखी

हिर्दय म गर कर डारे

मखमल के कुरता

संगी तोरे सुरता

मन ह आगासी बूढ़ जाये

पैरी पवन के झकोरा मा

आछारा लैहरा जाये

आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

सुन ले मोरे सजना

हा…..आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

टूटे झन ये बंधना

पिरित सरग के

सीढिया मैं हा

तोर संग चढ़ लेतेंव

तोर आँखी ले

माया के दुनिया

बस्ते बसत देख लेतेंव

ये जनम के हमर जोड़ी

जनम जनम झन छूटय

आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

सुन ले मोरे सजना

आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

सुन ले मोरे सजना

पैरी के तोर सरगम हा

दिल के राग ल छेठे

झरे माया के मोती

पिरित म तै हा बोरे

आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

टूटे झन ये बंधना

आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

सुन ले मोरे सजना

आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

टूटे झन ये बंधना

आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

सुन ले मोरे सजना

आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

टूटे झन ये बंधना

आजा मल्हार गाबो

माया म डूब जाबो

सुन ले मोरे सजना

is gaane me bataya hai ki jab ladhka ladhki aapne pyaar se nulakat karte hai tab unme jo bate hoti hai usi baat ko bataya hai jiski jikar ko sargam se bataya gaya hai.

In dono a pyaar bhi bahut jyada gahara hai aur na hi ye ek dusre ka sath chhodhenge aisa bataya hai humare chhattisgdh ke lok geet ko sunne ke liye sabhi log besabri se entjar karte rahate hai kiyoko humari saskriti hai or chhattisgdh ke paramparik geet dadriya bhi isme samil hai.

Leave a Comment